Tag Archives: Justice Ranjan Gogoi

हाईकोर्ट नहीं जा सका याचिकाकर्ता, CJI बोले- मैं खुद जाऊंगा श्रीनगर

हाईलाइट

  •  जम्मू-कश्मीर जा सकते है मुख्यन्यायाधीश रंजन गोगोई
  •  सामाजिक कार्यकर्ता की याचिका पर सुनवाई के दौरान की टिप्पणी
  •  जम्मू-कश्मीर हाईकोर्ट नहीं जा पा रहे हैं लोग !

जम्मू-कश्मीर से हटाई गए आर्टिकल 370 प्रावधानों से संबंधित एक याचिका की सुनवाई करते हुए चीफ जस्टिस ने बड़ी बात कही है। उन्होंने कहा कि अगर (याचिकाकर्ता के अनुसार) जम्मू-कश्मीर राज्य में लोग हाई कोर्ट में अपील नहीं कर पा रहे हैं तो यह बेहद गंभीर मामला है। वास्तविक स्थिति जनाने के लिए मैं हाईकोर्ट के जज से बात करुंगा। अगर हाईकोर्ट के जवाब संदेहस्पद लगा तो मैं खुद जम्मू-कश्मीर का दौरा करुंगा।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंhttps://www.bhaskarhindi.com/news/justice-ranjan-gogoi-said-that-he-will-himself-visit-srinagar-85116

Advertisements

अयोध्या विवाद: मध्यस्थता पैनल ने सौंपी रिपोर्ट, 15 अगस्त को फिर होगी सुनवाई

हाईलाइट

  • राम मंदिर मामले पर सुनवाई आज
  • मध्यस्थता पैनल की रिपोर्ट पर होगी सुनवाई
  • 8 मार्च को कोर्ट ने दी थी मध्यस्थता की इजाजत

देश के सबसे बड़े मुद्दों में एक रामजन्मभूमि और बाबरी मस्जिद विवाद मामले में सुप्रीम कोर्ट में मध्यस्थता प्रक्रिया के आदेश के बाद आज (शुक्रवार) को सुनवाई होगी। दशकों से अदालत की चौखट पर घूम रहे राजनीतिक रूप से संवेदनशील अयोध्या राम जन्मभूमि विवाद का समाधान बातचीत के जरिये तलाशने के लिए मध्यस्थता पैनल बनाई गई थी। पैनल ने अपनी अंतरिम रिपोर्ट सील बंद लिफाफे में सुप्रीम कोर्ट को सौंप दी है। आज होने वाली सुनवाई के बाद ही स्पष्ट हो सकेगा कि अंतरिम रिपोर्ट में पैनल ने क्या कहा है और यह विवाद मध्यस्थता के जरिए सुलझने की संभावना है या नहीं।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें – https://www.bhaskarhindi.com/news/ayodhya-case-hearing-today-ram-janmabhoomi-hearing-in-supreme-court-report-of-the-mediation-panel-67471

राष्ट्रपति ने दिलाई शपथ, जस्टिस गोगोई बने भारत के 46वें मुख्य न्यायाधीश

NEWS HIGHLIGHTS

  •  जस्टिस रंजन गोगोई भारत के 46वें CJI बने
  •  असम में NRC का फैसला जस्टिस गोगोई ने दिया था
  •  जस्टिस रंजन गोगोई की छवि ईमानदार और सख्त जज की है

जस्टिस रंजन गोगोई को आज राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने (बुधवार को) चीफ जस्टिस पद की शपथ दिलाई, जिसके बाद वो देश के 46वें मुख्य न्यायाधीश बन गए हैं। जस्टिस गोगोई पूर्वोत्तर से चीफ जस्टिस बनने वाले पहले जस्टिस हैं। उनका कार्यकाल 13 महीने का होगा। बता दें कि असम में NRC का फैसला जस्टिस गोगोई ने दिया था। उनकी छवि ईमानदार और सख्त जज की है। वे अवमानना के एक मामले में सुप्रीम कोर्ट के पूर्व जस्टिस मार्कंडेय काटजू को भी तलब कर चुके हैं।

इस साल12 जनवरी को जिन 4 वरिष्ठ जजों ने पूर्व सीजेआई दीपक मिश्रा के खिलाफ प्रेस कांफ्रेंस की थी, जिसमें जस्टिस रंजन गोगोई भी शामिल थे। इस प्रेस कांफ्रेंस में जजों ने सुप्रीम कोर्ट में काम के बंटवारे पर सवाल उठाए थे। ये भी माना जा रहा था कि जस्टिस दीपक मिश्रा गोगोई के नाम की सिफारिश न करें, लेकिन ऐसा नहीं हुआ। बता दें कि जस्टिस रंजन गोगोई की नियुक्ति के खिलाफ याचिका दायर की गई थी, जिसे सुप्रीम कोर्ट ने खारिज कर दिया था, कोर्ट ने कहा था कि अगले चीफ जस्टिस रंजन गोगोई की नियुक्ति में दखल का यह सही मंच नहीं है।

वकीलों से भी कम संपत्ति, खुद की गाड़ी भी नहीं 
जस्टिस रंजन गोगोई संपत्ति के मामले में वरिष्ठ और नामी वकीलों के सामने कहीं नहीं ठहरते। उनके पास सोने की कोई ज्वैलरी नहीं है। उनके पास अपना वाहन भी नहीं है। उनकी शेयर मार्केट और स्टॉक में भी कोई रूचि नहीं है। उन पर कोई कर्ज, लोन या बिल बकाया नहीं है। जस्टिस गोगोई और उनकी पत्नी के पास कुल 30 लाख रुपए की संपत्ति है। देश के मशहूर वकील एक दिन में 50 लाख रुपए तक कमा लेते हैं, जबकि कुछ समय पहले तक एक जज की तनख्वाह 1 लाख रुपए महीना थी, जिसे बढ़ाकर अब 2.5 लाख रुपए किया गया है।

वकालत से शुरू किया करियर

1978- जस्टिस रंजन गोगोई ने 1978 में वकालत के लिए रजिस्ट्रेशन कराया था। उन्होंने संवैधानिक, कराधान और कंपनी मामलों में गुवाहाटी हाईकोर्ट में वकालत की।

2001- 28 फरवरी 2001 में गोगोई को गुवाहाटी हाईकोर्ट का स्थायी न्यायाधीश नियुक्त किया गया।

2010-  9 सितंबर 2010 को उनका तबादला पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट में किया गया।

2011- जस्टिस गोगोई को 12 फरवरी 2011 को पंजाब और हरियाणा हाईकोर्ट का मुख्य न्यायाधीश नियुक्त किया गया।

2012-  23 अप्रैल 2012 को सुप्रीम कोर्ट के न्यायाधीश के रूप में उनकी नियुक्ति हुई।


Source:
https://www.bhaskarhindi.com/news/justice-ranjan-gogoi-took-oath-of-46th-chief-justice-49806