Tag Archives: केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह

गृहमंत्री अमित शाह का जन्मदिन आज,ऐसा रहा राजनीतिक सफर

हाईलाइट

  •  मुंबई में गुजराती परिवार में हुआ था अमित शाह का जन्म
  •  बीएससी करने के बाद संभालने लगे थे पिता का कारोबार
  •  पीएम मोदी ने दी जन्मदिन की बधाई

भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह का आज(मंगलवार) जन्मदिन है। शाह का जन्म 22 अक्टूबर 1964 को मुंबई के एक व्यापारी के घर में हुआ था। उनका परिवार गुजराती हिंदू वैष्णव बनिया था। उनकी मां का नाम कुसुमबेन और पिता का नाम अनिलचंद्र शाह है। मेहसाणा में शुरूआती पढ़ाई के बाद वे अहमदाबाद गए। जहां से उन्होंने बॉयोकेमिस्ट्री में बीएससी की। उसके बाद अमित शाह प्लास्टिक के पाइप का पारिवारिक व्यापार संभालते लगे। कम उम्र में ही वे आरएसएस से जुड़ गए थे। वर्ष 1982 में कॉलेज के दिनों में शाह नरेंद्र मोदी से मिले। 1983 में वे एबीवीपी से जुड़े और छात्र जीवन में राजनीतिक रूझान बना।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करेंhttps://www.bhaskarhindi.com/news/home-minister-amit-shah-birthday-today-bjp-president-life-journey-pm-modi-wishes-90479

Fake News : क्या ममता बनर्जी ने अमित शाह से ली रामायण ?

सोशल मीडिया पर इन दिनों पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी और केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह की फोटो काफी वायरल हो रही है। तस्वीर में ममता बनर्जी और अमित शाह ने सफेद रंग के लिफाफे जैसा कुछ पकड़ा हुआ है। जिसपर ‘जय श्री राम’ लिखा हुआ है। ट्विटर पर इसे P Shashi ने शेयर किया है। उन्होंने लिखा है, ममता बनर्जी ने बंगाल में जय श्री राम के नारे का विरोध किया था। अब आप उन्हें अमित शाह के हाथों रामायण लेते हुए देख सकते हैं। डर गई जब शेर सामने आया तो।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें
https://www.bhaskarhindi.com/news/mamata-banerjee-accept-ramayan-from-home-minister-amit-shah-photoshopped-image-viral-86805

तुष्टिकरण के कारण तीन तलाक कुप्रथा को खत्म करने में लगे 56 साल: शाह

Amit Shah said Politics of appeasement was reason for continuance of triple talaq

हाईलाइट

  • शाह ने कहा, नारी को ईश्वर ने जो समानता का अधिकार दिया है, तीन तलाक कानून उसे ही स्थापित करता है
  • अगर आज भी तीन तलाक कुप्रथा खत्म नहीं करते तो यह दुनिया के सामने भारत पर बहुत बड़ा धब्बा होता

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने तीन तलाक को लेकर कांग्रेस पर जमकर निशाना साधा। रविवार को शाह ने कहा, तीन तलाक एक कुप्रथा थी, इसमें कोई संदेह नहीं है, लेकिन कांग्रेस की तुष्टिकरण की राजनीति के कारण इस कुप्रथा को खत्म करने में 56 साल लग गए, जबकि तीन तलाक पर कानून बनने से मुस्लिम महिलाओं को हक मिला है। नारी को ईश्वर ने जो समानता का अधिकार दिया है, तीन तलाक कानून उसे ही स्थापित करता है। अगर आज भी हम यह न करते तो यह दुनिया के सामने भारत पर बहुत बड़ा धब्बा होता।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें – https://www.bhaskarhindi.com/news/amit-shah-said-politics-of-appeasement-was-reason-for-continuance-of-triple-talaq-81952

लोकसभा में ओवैसी की टिप्पणी पर बोले शाह – सुनने की भी आदत डालिए

हाईलाइट

  • आज संसद में पेश हुआ NIA को अधिक ताकत देने वाला संशोधन बिल 
  • बीजेपी सांसद सत्यपाल सिंह की स्पीच के वक्त बार-बार टिप्पणी करते रहे ओवैसी 
  • ओवैसी की टिप्पणी पर अमित शाह ने कहा- सुनने की भी आदत डालिए, ऐसे नहीं चलेगा

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में ही असदुद्दीन ओवैसी को सुनने की आदत डालने की नसीहत दे डाली। दरअसल सोमवार को लोकसभा में राष्ट्रीय सुरक्षा एजेंसी (NIA) को अधिक ताकत देने वाला संशोधन बिल पेश हुआ। इस पर चर्चा के दौरान जब सरकार की तरफ से बीजेपी सांसद सत्यपाल सिंह बोल रहे थे, तभी बवाल हो गया। उनके भाषण के दौरान AIMIM के प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी विरोध किया और बार-बार टिप्पणी करते रहे। इस बीच गृह मंत्री अमित शाह खड़े हुए और ओवैसी से कहा, आप सुनने की भी आदत डालिए।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें – https://www.bhaskarhindi.com/news/amit-shah-attacked-on-asaduddin-owaisi-in-lok-sabha-nia-amendment-bill-satya-pal-singh-speech-73208

सदन में बोले शाह – जम्मू कश्मीर में 6 महीने बढ़ाया जाए राष्ट्रपति शासन

हाईलाइट

  • केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में जम्मू कश्मीर आरक्षण विधेयक सदन में पेश कर दिया है.
  • जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन 6 महीने के लिए बढ़ाने से जुड़ा प्रस्ताव सदन में रखा

केंद्रीय गृहमंत्री अमित शाह ने लोकसभा में जम्मू कश्मीर आरक्षण विधेयक सदन में पेश कर दिया है। उन्होंने सदन में लोकसभा में जम्मू कश्मीर में राष्ट्रपति शासन 6 महीने के लिए बढ़ाने से जुड़ा प्रस्ताव सदन में रखा। इस पर चर्चा के दौरान गृह मंत्री ने कहा कि जब कोई दल राज्य में सरकार बनाने के लिए तैयार नहीं था तो कश्मीर में राज्यपाल शासन लगाया गया था।

आगे पढ़ने के लिए यहां क्लिक करें – https://www.bhaskarhindi.com/news/presenting-in-jammu-kashmir-reservation-billlok-sabha-live-update-rajya-sabha-live-update-amit-shah-live-update-71726